Baglamukhi , Beeja mantra , meditation

Meditation through Baglamukhi beeja mantra

 

ध्यान मतलब निर्विचार अवस्था . चांदनी रात में जिस तरह तालाब में कंकड़ मरने से चाँद नहीं दिखता और अगर दिखता भी है तो साफ़ नहीं . वैसे ही हमारा मन विचारों की तरंगों से इस तरह कम्पित है की अपने अंदर बैठे
परमात्मा की झलक ही नहीं मिलती . और अगर कभी मिलती भी है तो हम समझ नहीं पाते . ध्यान के प्रयोग करते करते एक समय ऐसा आता है कम समय के लिए ही सही जब हम निर्विचार हो जाते हैं . पहले छोटे छोटे अन्तः और बाह्य कुम्भक लगते हैं . इस छोटे से अन्तराल में भी अतीन्द्रिय
आनंद की अनुभूति होती है . लगातार अभ्यास से हम लम्बे समय तक इस अवस्था में रह सकते हैं .

जितनी भी साधनाए हैं , सब मन को शांत और अंततः निर्विचार करने के लिए हैं . इसीलिए इसकी अनेक विधियाँ भी हैं . मंत्रो के जप से ऐसा सहज में हो जाता है . कई मंत्र स्वतः सिद्ध होते हैं तो कई को जप अनुष्ठान से सिद्ध करना होता है |
सिद्ध होने के बाद मंत्र प्राण और इष्ट को जोड़ देते हैं जिससे हमारी चेतना का विस्तार हो जाता है . महाविद्याओं के मंत्र स्वतः सिद्ध होते हैं और शक्ति दीक्षा के प्रथम दिन से ही अपना प्रभाव दिखाते हैं . सारे महाविद्याओं की साधना उनके बीज मंत्र से प्रारंभ होते हैं . बीज , नाम से स्पष्ट है की पूरा पेड़ छुपा होता है इसके अंदर . बस जरूरत है इसे सींचने और अनुकूल माहोल देने की . इस बीज को अपने गुरु से श्रद्धा पूर्वक ग्रहण करना चाहिए और फिर ज्यादा से ज्यादा संख्या में जप करना चाहिए . एक बार इष्टदेव की कृपा मिलते ही साधक फिर आगे बढ़ते ही चला जाता है .

हमारे सनातन धर्म में योगी लोग बगलामुखी की साधना करके अपने मन का स्तम्भन कर आसानी से ध्यान में प्रवेश कर पाते थे . तो आइये हम अष्टम महाविद्या बगलामुखी के बीज मंत्र पर ध्यान करें .

  • माँ से मार्गदर्शन की प्रार्थना कर आराम से और आख बंद करके एकांत में बैठिये
  • निचे दिए ऑडियो को चला कर बगलामुखी बीज मंत्र “ह्ल्रीम” की आवाज पर ध्यान करें .

अनुभव निचे कमेंट में जरूर शेयर कीजिये .

 

Meditative state means no mind state when we become thoughtless . As we can’t see moon clearly in the water of pond if it is disturbed by throwing a stone .Similarly stones of so many thought patters create a lot of vibrations in our mind that we are not able to see the God within .Even if sometimes we get a glimpse , we are not able to recognize . With regular practice of meditation , gap between breath starts taking place .Initially it is for short term , but we experience bliss and peace . After longer practice this gap is increased as our breath becomes slower and slower and subsequently we experience highest divine state of
i.e Samadhi .

All the spiritual practices are to make the mind thoughtless . Therefore there are a lot of methods .With the help of chanting we can easily enter into such state .Many mantras are already in energized state and for some we have to do Anusthans ( Chant in a given number ) to make it fruitful .After energizing the mantra creates a bridge between
our Prana and the deity . And hence enhances our consciousness . Mantras of Mahavidya are self energized and show the effect from the first day itself after initiation.
Practice of all Mahavidya starts from Beeja (seed) mantra . It is clear from Beeja that whole plant ishidden in it . We just need to give proper base for it to flourish . And that base is the number of chant .More you chant , more you rip the fruit . Once you get the blessings of deity there is no back down . Practitioner keep on rising till the highest knowledge is achieved .

In Sanatan dharam ( Hinduism ) numerous yogi’s and spiritual seeker used to do Baglamukhi sadhana to control the senses easily and enter into meditative state .
so lets get the blessing of Mother Baglamukhi and concentrate on her beej mantra ” HLREEM

  •  Sit in a quite place Pray to Goddess Baglamukhi for her blessings and close your eyes .
  • Play this audio and concentrate on the sound of Mantra

Don’t forget to  share your experience after this . Thank you .

onkar kumar
I am a software enginner in an MNC with deep interest in spiritual stuffs . I have knowledge of healing such as Reiki , Prana voilet healing , Crystal healing etc .
I am Reiki Grand master , love meditation and inspire everyone to experience peaceful and blissful life .
It would be awesome if you would share your knowledge and experience . Thank you .